SCHOLAR ‘S DESTINY, APJ OVERSEAS, RAJ ENTERPRISES काे सरकारी आदेश की नहीं काेई परवाह ..

HNI-logo

SCHOLAR ‘S DESTINY, APJ OVERSEAS, RAJ ENTERPRISES काे सरकारी आदेश की नहीं काेई परवाह ..

“हमारी ऊपर तक पहुंच, हमारा काेई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, पुलिस हमारे दफ्तराें का रूख तक नहीं कर सकती” !

सरेआम उड़ा रहे धज्जियां, प्रशासन काे जूते की नाेक पर रखकर खाेल रहे दफ्तर, देखें वीडियाे

(HNI ब्यूरे) – जालंधर का ट्रैवल काराेबार न केवल दाेआबा बल्कि पूरे नार्थ इंडिया में अपना एक अल्ग स्थान रखता है। पूरे प्रदेश में जितने ट्रैवल एजैंट काम कर रहे हैं, उससे अधिक केवल जालंधर व आस-पास के इलाकाें से आपरेट कर रहे हैं।

कुछ साल पहले तक बिना लाईसैंस के अपना काराेबार चलाने वाले उक्त लाेगाे ने अब प्रदेश सरकार के आदेशानुसार अलग-अलग कैटेगरी के लाईसैंस लिए हैं व अपना काराेबार कर रहे हैं।

लंबे समय से जालंधर के ट्रैवल एजैंटाें का विवादाें के साथ चाेली-दामन का साथ बना रहा है। चाहे भाेली-भाली जनता काे विदेश जाने के सुनहरे सपने दिखाकर लूटने का मामला हाे, चाहे जाली दस्तावेज के आधार पर अंबैसियाें से बच्चाें के भविष्य से खिलवाड़ करने का मामला हाे, चाहे बैंकाें से फंडिग करवाने के नाम पर खून चूसने वाला ब्याज वसूलने का मामला हाे, चाहे जाली ट्रैवल एजैंटाें के खिलाफ बार-बार ईडी, इंकम टैक्स व अन्य विभागाें द्वारा की गई रेड का मामला हाे।

हर बार शातिर ट्रैवल अपनी चालाकी से काेई न काेई जुगाड़ लगाने में कामयाब हाे जाते हैं व साफ बच निकलते हैं।

इनके खिलाफ काेई ठाेस कारवाई न हाेने का ही नतीजा है, कि कुछ ट्रैवल एजैंटाें के हाैंसले इतने बुलंद हाे चुके हैं, कि वह सरकारी आदेश की रत्ती भर परवाह नहीं करते हैं। ऐसा ही कुछ नज़ारा वीरवार काे उस समय देखने काे मिला जब कुछ ट्रैवल एजैंट सरकार व प्रशासन के आदेशाें काे धत्ता बताते हुए सरेआम धज्जियां उड़ाते हुए देखे गए।

क्या है प्राईवेट दफ्तराें संबंधी सरकार व प्रशासन का आदेश ?

हाट न्यूज़ इंडिया की टीम जब वीरवार काे बस स्टैंड के पास, अराेड़ा प्राईव टावर में गए ताे ज़मीनी हकीकत सरकारी आदेशाें के विपरीत नज़र आई। बहुत से ट्रैवल एजैंट अपने दफ्तर खाेलकर काम करते हुए देखे गए। बाकायदा ताैर पर स्टाफ भी माैजूद था। ग्राहकाें के साथ डीलिंग भी की जा रही थी। कई जगह ताे स्टाफ व मालिकाें ने मास्क भी नहीं पहना था।

जब उनसे सवाल किया गया, कि सरकार का स्पष्ट आदेश है कि सभी प्राईवेट दफ्तर बंद रहेंगे और केवल वर्क फराम हाेम की इजाजत है,

ताे कई लाेगाें ने ताे यह कहकर पल्ला झाड़ने की काेशिश की,

*       “हम ताे केवल कुछ सामान लेने आए थे”

*          “कुछ ज़रूर काम थे, जिन्हें निपटाना बेहद आवश्यक था”

*           “कुछ ने कहा कि हमें आदेश के बारे में कुछ भी पता नहीं है”

कुछ लाेगाें ने सरेआम यह कहकर सरकारी आदेश की खिल्ली उड़ाते हुए कहा, कि

*         “उनकी पहुंच बहुत ऊंची है, हमारी प्रशासन में तगड़ी सैटिंग है, पुलिस हमारे दफ्तराें का रूख तक नहीं कर सकती”

*           “हमारा कुछ भी नहीं बिगड़ सकता, हम ताे इसी प्रकार से अपने दफ्तर खाेलेंगे”

 


वीडियाे देखने के लिए नीचे लिंक क्लिक करें – 


साेचने वाली बात है, कि ट्रैवल काराेबार करने वाले उक्त लाेगाें के हाैंसले इतने कैसे बड़ सकते हैं। कहीं न कहीं ताे उनका ऐसा कहने के पीछे काेई राज़ है, जिसके चलते वह सरेआम प्रदेश सरकार व प्रशासन के आदेश का उल्लंघन कर रहे हैं।

⇒      आखिर क्या कारण है कि प्रशासन सब कुछ देखकर भी आंखे मूंदकर बैठा है ?

⇒     अगर प्राईवेट दफ्तर बंद करने की ज़रूरत नहीं है ताे फिर सरकार काे आदेश जारी क्याें करना पड़ा ?

⇒     क्या आदेश की पालना न करने वालाें के खिलाफ हाेगा पर्चा दर्ज ?

⇒     क्या ऐसे ट्रैवल एजैंटाें के लाईसैंस हाेंगे रद्द ?

आदेशाें का उल्लंघन करने वालाें पर हाेगी कड़ी कारवाई – एसीपी माडल टाऊन

एसीपी माडल टाऊन हरिंदर सिंह गिल्ल से जब इस बारे में बात की गई ताे उन्हाेंने कहा, कि सरकार का आदेश साफ है कि प्राईवेट दफ्तर बंद रहेंगे। इसलिए अगर काेई भी इसका उल्लंघन करता है, ताे उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कारवाई की जाएगी।

उन्हाेंने कहा कि इस बात की जानकारी मिली है, कि आज कुछ लाेगाें ने दफ्तर खाेले थे, अधिकारियाें व कर्मचारियाें काे निर्देश जारी कर दिया गया है, कि कल इस संबंधी चैकिंग की जाए, अगर काेई दफ्तर खुला मिलता है, ताे कानून के अनुसार उसके खिलाफ बनता पर्चा दर्ज किया जाएगा।

 

1 Comment

  • Waneta Ailor
    May 1, 2021

    There is noticeably a bundle to learn about this. I assume you made certain nice points in features also.

Post a Comment

Translate »