सब रजिस्ट्रार दफ्तर अंदर की बात

सब रजिस्ट्रार दफ्तर अंदर की बात

👉 लालच की सारी हदें पार कर रहा एक विवादित अधिकारी
👉 विधायक के करीबी से ही रजिस्ट्री के वसूल लिए 60 हजार
👉 फाइल में लगे गलत दस्तावेज निकालने के लिए मांगे अलग से 20 हजार
👉 भेद खुलता देख एक कर्मचारी पर इल्जाम थोपने का बनाया प्लान
👉 सीएम के पास शिकायत भेजने की हो रही तैयारी, गिर सकती है गाज

(HNI ब्यूरो) : जालंधर की सब रजिस्ट्रार बिल्डिंग जिसके बारे में मशहूर है कि यहां की दीवारें भी पैसे मांगती हैं। यहां पिछले कुछ समय से तैनात एक अधिकारी ऐसा है जिसने लालच की सारी हदें पार कर दी हैं और उक्त अधिकारी के द्वारा रोजाना दोनों हाथों से मोटी काली कमाई बटोरने का सिलसिला बदस्तूर जारी है।
ऐसा नहीं है कि इस अधिकारी के लालच का उच्च अधिकारियों को कुछ पता नहीं है। इसके द्वारा वसूली जा रही मोटी काली कमाई को लेकर पहले भी कई शिकायतें दर्ज हो चुकी है और एक बार तो इसका तबादला भी हो गया था। मगर उक्त अधिकारी जो कि खुद को बहुत बड़े राजनेता का करीबी बताता है और अपनी ऊंची पहुंच, सेटिंग वह पैसों के दम पर एक बार दोबारा से अपने ऑर्डर जालंधर के करवाने में कामयाब हो गया था।

दोबारा जालंधर में तैनाती के बाद इसके हौसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि अब इसको किसी की परवाह नहीं रह गई है और यह ना तो किसी जनप्रतिनिधि की परवाह करते हैं और ना ही किसी अधिकारी की सिफारिश को मानते हैं।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त अधिकारी द्वारा कुछ समय पहले एक विधायक के बेहद करीबी व्यक्ति द्वारा लाई गई रजिस्ट्री को भी पैसों से तोल ते हुए लगभग ₹60000 मोटी रिश्वत वसूली गई। इतना ही नहीं इस राशि में इसने अपने अधीन काम करने वाले किसी कर्मचारी को एक फूटी कौड़ी देना मुनासिब नहीं समझा और यह कहते हुए सारे पैसे अकेले डकार लिए कि यह मेरी डायरेक्ट दिल है इसलिए सारे पैसे मैं ही लूंगा।
इस पूरी डील को लेकर हॉट न्यूज़ इंडिया के एक जागरूक पाठक द्वारा सभी सबूत उपलब्ध करवाए गए हैं जिन्हें देखकर पैरों तले जमीन निकल जाती है।
इस मामले में हद तब हो गई जब उक्त रजिस्ट्री करवाते समय एक ऐसा दस्तावेज उस रजिस्ट्री में लगाया गया जो कि गलत था और उसे जब वापस निकलवाने की बात की गई तो लालची अधिकारी द्वारा कागज वापस करने के भी ₹20000 मांग लिए गए।

https://fb.watch/39cbcD9Rl2/

इस मामले की गंभीरता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि जिस जमीन की रजिस्ट्री करवाई गई उसको लेकर विधायक द्वारा ग्रांट भी दी गई थी और अधिकारी द्वारा सब कुछ जानते हुए जानबूझकर रजिस्ट्री करते समय उसमें कई खामियां निकाली गई ताकि वह मोटी राशि वसूल सके।

इस मामले को लेकर जल्दी ही एक स्वयंसेवी संगठन द्वारा प्रदेश के सीएम के पास सबूतों सहित शिकायत दर्ज करवाई जा रही है ताकि ऐसे लालची अधिकारियों को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड करके उनके खिलाफ बनती कानूनी कार्रवाई भी की जा सके।

Post a Comment

Translate »