(बड़ा सवाल) क्या तहसील में काम करने वाले काराेबारियाें से नहीं फैल सकता काेराना ?

HNI-logo

(बड़ा सवाल) क्या तहसील में काम करने वाले काराेबारियाें से नहीं फैल सकता काेराना ?

घातक साबित हाे सकती है मामूली सी लापरवाही

सैंकड़ाें लाेगाे के सीधा संपर्क में आते हैं वसीका नवीस, अष्टामफराेश आदि

(HNI ब्यूराे) –  पूरे भारत में काेराना ने अपनी रफ्तार पकड़ी हुई है। पंजाब की बात करें ताे यहां राेज़ाना बड़ी गिनती में लाेग काेराना पाज़िटिव पाए जा रहे हैं। खासताैर पर जालंधर की बात करें ताे प्रदेश में सबसे अधिक काेराना के मामलाें में अग्रणी ज़िलाें मे जालंधर का नाम आता है। ज़िला प्रसासन की तरफ से काेराना संक्रमण काे राेकने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। घर-घर काेराेना वैक्सीनेशन पहुंचाने की दिशा में भी कई कदम उठाए जा रहे हैं।

मगर इस सबके बीच एक बड़ा सवाल जाे खड़ा हाेता है – जिसका जवाब जालंधर की जनता प्रशासन से मांग रही है,

कि आखिर तहसील में काम करने वाले काराेबारियाें से काेराना नहीं फैल सकता है ?

क्या यहां आने वाले लाेगाें के संपर्क में आने से काेराना नहीं फैल सकता है ?

क्या तहसील परिसर व डीएसी के अंदर काम करने वाले अलग-अलग लाेग जैसे कि वसीका नवीस, अष्टामफराेष, फाेटाेस्टेट काऊंटर पर काम करने वाले, टाईपिंग का काम करने वाले, कैंटीन में काम करने वाले, यहां से आपरेट करने वाले निजी करिंदे एवं एजैंट आदि क्या पूरी तरह से सुरक्षित हैं ?

डीसी घनश्याम थाेरी द्वारा सरकारी कर्मचािरियाें की सुरक्षा काे यकीनी बनाने के उद्देश्य से काेविड वैक्सीनेशन कैंप लगाए जा रहे हैं। ताकि सरकारी दफ्तराें में काम करने वाले कर्मचारियाें के अंदर काेराना जैसी भयंकर बीमारी के प्रभाव काे कम किया जा सके।

ज़िला प्रशासन द्वारा स्वयं सेवी संगठनाें, अलग-अलग एसाेसिएशनाें आदि की भी मदद ली जा रही है, ताकि अधिक से अधिक लाेगाें काे काेविड वैक्सीन लग सके।

वहीं इस बीच न जाने प्रशासनिक अधिकारी कैसे अपने ही दफ्तर के सबसे नज़दीक काम करने वाले सैंकड़ाें लाेगाें काे भूल गए। तहसील में काम करने वाले बहुत से लाेग काेविड वैक्सीन लगवा भी चुके हैं। मगर अभी भी बड़ी गिनती के अंदर लाेग ऐसे हैं, जिन्हें वैक्सीन लगना बाकी है।

तहसील में इस बात काे लेकर मांग उठने लगी है, कि जिला प्रशासन काे काेई प्रयास करना चाहिए, जिससे यहां काम करने वाले लाेग भी वैक्सीन लगवा सकें। अगर मुफ्त वैक्सीन की सुविधा नहीं दी जा सकती है, ताे कम से कम किसी स्वयं सेवी संगठन की मदद लेकर या फिर  निजी हस्पतालाें की मदद से काराेबारियाें से पैसे लेकर वैक्सीन लगवाने का प्रबंध किया जा सकता है।

अगर प्रशासन ऐसा करता है, ताे इसका सीधा लाभ शहर की आम जनता काे ही मिलने वाला है। क्याेंकि हर राेज़ बड़ी गिनती में लाेग दूर-दराज के इलाकाें से अपने-अपने काम करवाने यहां आते हैं।

इस संबधी जब डीसी घनश्याम थाेरी से बात करने की काेशिश की गई, ताे उन्हाेंने फाेन नहीं उठाया, जिससे उनका पक्ष प्राप्त नहीं हाे सका। जैसे ही उनसे बात हाेगी, उनका पक्ष भी प्रमुखता से प्रकाशित किया जाएगा।

 

6 Comments

  • Great beat ! I would like to apprentice while you amend your website, how can i subscribe for a blog site?
    The account helped me a acceptable deal. I had been tiny bit acquainted
    of this your broadcast offered bright clear concept 0mniartist asmr

  • A motivating discussion is definitely worth
    comment. There’s no doubt that that you ought to write more about this subject, it may not be a taboo subject but typically folks
    don’t discuss these subjects. To the next! Best wishes!!
    asmr 0mniartist

  • 0mniartist
    April 12, 2021

    If some one desires to be updated with latest technologies afterward he must be go to see this web site and be up to date
    every day. 0mniartist asmr

  • vreyrolinomit
    April 14, 2021

    I besides believe hence, perfectly pent post! .

  • http://j.mp/3scqlff
    April 15, 2021

    Excellent weblog here! Also your web site quite a bit up fast!
    What web host are you using? Can I get your associate hyperlink for your host?

    I desire my site loaded up as quickly as yours lol 0mniartist asmr

  • http://j.mp/3ggaR7J
    April 16, 2021

    I visited several web sites but the audio quality for audio songs present at
    this web page is really superb. asmr 0mniartist

Post a Comment

Translate »