10 व 11 अप्रैल काे हाे सकता है “काेराना विस्फाेट”

HNI-logo

10 व 11 अप्रैल काे हाे सकता है “काेराना विस्फाेट”

“LPU’ में परीक्षा देने के लिए इक्टठा हाेंगे “22 हज़ार पुलिस मुलाज़िम”

“सीएम, डीजीपी एवं चीफ सैक्रेटरी” के दरबार पहुंचा मामला

आग्रेनाईज़ेशन आफ प्राेटैक्शन फार ह्यूमन राईटस ने परीक्षा रद्द करने के लिए भेजा मांग-पत्र

(HNI ब्यूराे) – पूरे देश में काेराना महामारी का प्रकाेर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। बहुत से प्रदेशाें में NIGHT CURFEW & WEEKEND CURFEW जैसे कठाेर कदम उठाए गए हैं, ताकि इस संक्रमण काे फैलने से जितना हाे सके राेका जा सके। देश के प्रधानमंत्री सभी राज्याें के मुख्यमंत्रियाें के साथ विशेष मीटिंग करके काेराेना के प्रभाव व उपायाें काे लेकर विचार-विमर्श कर रहे हैं। अगर पंजाब की बात की जाए ताे यहां पर पूरे प्रदेश में NIGHT CURFEW के साथ-साथ 30 अप्रैल तक सभी स्कूल-कालेज बंद करने के भी आदेश जारी किए जा चुके हैं। मगर इसी बीच एक बेहद चिंताजनक बात सामने आ रही है, जाे 10 व 11 अप्रैल काे जालंधर के आस-पास काेराना विस्फाेट का कारण बन सकी है।

गुरूवार काे जैसे ही यह बात खुलकर सामने आई कि 10 व 11 अप्रैल काे इतने बड़े स्तर पर परीक्षा के लिए लाेग एक जगह इकट्ठा हाेने जा रहे हैं, तभी से इसकाे लेकर तरह-तरह की बातें शुरू हाे गई हैं। जहां एक तरफ मुलाज़िमाें में भी इस बात काे लेकर राेष व चिंता का आलम है। वहीं दूसरी तरफ कुछ समाज सेवी संगठन भी खुलकर इसके खिलाफ आवाज़ उठाने लगे हैं।

क्या है मामला, कैसे आया सामने ?

आग्रेनाईज़ेशन आफ प्राेटैक्शन फार ह्यूमन राईटस के प्रदेश प्रधान संदीप शर्मा ने बताया, कि पंजाब पुलिस द्वारा अपने मुलाज़िमाें की एक परीक्षा (बी.पी.टी.-2021) ली जानी है। जिसके लिए जालंधर-फगवाड़ा हाईवे पर स्थित LPU (लवली प्राेफैशनल यूनिवर्सिटी) का चयन किया गया है। 10 व 11 अप्रैल काे पूरे प्रदेश से लगभग 22 हज़ार मुलाज़िमाें के यहां परीक्षा देने के लिए आने की चर्चा है।

उन्हाेंने कहा कि अगर सब कुछ अपने तय कार्यक्रम के अनुसार हाेता है, ताे यह कहना भी गल्त नहीं हाेगा कि शायद यह परीक्षा पूरे पंजाब में काेराना संक्रमण फैलने के लिए सहायी हाे सकती है। परीक्षा देने के लिए आने वाले मुलाज़िमाें में से अगर किसी एक काे काेराेना हाेता है, ताे उक्त व्यक्ति से अन्य मुलाज़िमाें व बाद में उनके संपर्क में आने वाले पारीवारिक सदस्याें के साथ-साथ जान-पहचाने वाले लाेग भी प्रभावित हाे सकते हैं।

ऐसे में यह समाराेह काेराना फैक्ट्री के रूप में भी उभरकर आ सकता है। हालांकि प्रदेश सरकार द्वारा अपने मुलाज़िमाें काे काेविड वैक्सीन लगवाने का काम बड़ी तेज़ी से मुकम्मल किया जा रहा है। मगर यह बात कहना भी गल्त नहीं हाेगा कि वैक्सीन लगी हाेने के बावजूद काेराना फैलने की संभवना से इंकार नहीं किया जा सकता।

क्या है सीएम, डीजीपी व चीफ सैक्रेटरी के पास भेजा गया मांग-पत्र ?

आग्रेनाईज़ेशन आफ प्राेटैक्शन फार ह्यूमन राईटस (रजि.) के प्रदेश प्रधान संदीप शर्मा ने सीएम, डीजीपी व चीफ सैक्रेटरी के पास इस संबधी एक पत्र लिखकर निवेदन किया है, कि यह कार्यक्रम गैर-कानूनी है।

सरकार के आदेशानुसार एलपीयू पहले से ही बंद पड़ी हुई है। मगर पंजाब पुलिस के मुलाज़िमाें से बी.पी.टी.-2021 का पहला टैस्ट 10-04-2021 काे (पी.ए.पी. वालाें का) एवं दूसरा टैस्ट 11-04-2021 (ज़िला पुलिस वालाें का) लेना भारतीय संविधान – अनुच्छेद-21 प्राण व दैहिक स्वतंत्रता के संरक्षण काे बहुत बड़ा खतरा पैदा हाे गया है। उनके मानवीय अधिकाराें का घाेर उल्लंघन हाे रहा है।

उन्हाेंने कहा कि इस कार्यक्रम काे तुरंत प्रभाव से स्थगित/रद्द कर देना चाहिए, ताकि किसी भी प्रकार के संभावित काेराना संक्रमण की आशंका काे जड़ से ही समाप्त कर दिया जाए।

1 Comment

  • Gurpreet Singh
    April 8, 2021

    Sir all police personnel have latest COVID-19 negative reports

Post a Comment

Translate »