(EXCLUSIVE) पिम्स प्रबंधन के एक मैसेज ने मचाया हडक़ंप

(EXCLUSIVE) पिम्स प्रबंधन के एक मैसेज ने मचाया हडक़ंप

– कर्मचारियों व डाक्टरों मे बैचेनी का आलम

(HNI ब्यूरो) : पंजाब इंस्टीच्यूट आफ मैडीकल साईंस गढ़ा रोड जालंधर के प्रबंधन की तरफ से अपने सभी कर्मचारियों के मोबाईल पर एक मैसेज भेजा जा रहा है। जिससे पूरे अस्पताल में हडक़ंप वाली स्थिति पैदा हो गई है। पिम्स सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस मैसेज की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यहां काम करने वाले लगभग सभी कर्मचारियो व डाक्टरों के बीच बैचैनी का आलम देखने को मिल रहा है।

क्या है मैसेज, क्यों सब हुए परेशान ?

पिम्स प्रबंधन की तरफ से सभी कर्मचारियों को एक संदेश भेजा जा रहा है, जिसमें लिखा है कि मई 2021 तक उन्हें 6.5 प्रतिशत की कटौती करके सैलरी दी जाएगी। इसके साथ ही कोई स्पैशल लीव भी प्रदान नहीं की जाएगी। जिन्होंने पहले स्पैशल लीव ले रखी है, उसे अब सीएल या फिर एसएल के तौर पर समझा जाएगा। अगर पिम्स की वित्तीय स्थिति में सुधार हो जाता है, तो काटी गई सैलरी वापिस लौटाई जा सकती है।



सूत्रों की मानें तो अस्पताल द्वारा इस मैसेज को भेजने के पीछे खराब वित्तीय हालत को कारण बताया जा रहा है। मगर असलीयत कुछ और ही है। क्योंकि अस्पताल द्वारा पहले ही जबरदस्ती दो दिन की छुट्टी करने के लिए कर्मचारियों को बाध्य किया जा रहा था। मगर अब अचानक से सभी की सैलरी काटना सरासर गल्त है। नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर कुछ कर्मचारियों ने कहा कि अस्पताल प्रबंधन द्वारा किया जा रहा काम किसी तुगलकी फरमान के जैसे है। और लेबर रेट से कम सैलरी देना भी गैरकानूनी है। ऐसे में पिम्स प्रबंधन को अपने फैसले पर पुर्नविचार करना बनता है।

इस संबधी जब पिम्स का पक्ष जानने के लिए रेजिडेंट डायरैक्टर अमित सिंह को फोन किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया जिससे उनका पक्ष प्राप्त नहीं हो सका। जैसे ही उनका पक्ष प्राप्त होगा, उसे भी प्रमुखता से प्रकाशित किया जाएगा।

Post a Comment

Translate »